सेक्टर-44 स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल का पुराना मामला अभी शांत भी नहीं हुआ की एक और मामला सामने आया है | जिसमे एक किसान से मनमाने पैसे वसूले है |

अस्पताल पर आरोप लगाया गया है की ,पथरी का इलाज करवाने आए एक किसान को 42 दिन के इलाज के 36 लाख रूपए का बिल थमा दिया है | किसान का नाम भीम सिंह हे जो | दौलताबाद का रहने वाला है|

इस मामले में भीम सिंह के बेटे जगदीप सिंह ने सिविल सर्जन को लिखित शिकायत दी है | दौलताबाद निवासी जगदीपं सिंह का कहना है की उसने उसके पिता भीमसिंह को 27 अप्रैल 2016 को शहर के पार्क अस्पताल में पथरी की परेशानी को लेकर भर्ती करवाया था | 28 अप्रैल को उनका ऑपरेशन हुआ था, लेकिन इसके बाद उनकी तबियत  बिगड़ ने लगी |  ऑपरेशन के बाद 30 अप्रैल तक होश नहीं आने पर उसी दिन शाम को डॉक्टर्स ने उसे फोर्टिस अस्पताल में रेफर कर दिया | यहाँ मरीज की तबियत में सुधार होने लगा | फिर डॉक्टर ने 10 मई को कहा की भीमसिंह के पेट में गैस की  समस्या  होने से उसकी बड़ी आंत भी फट गयी |

इस वजह से उनकी किडनी भी खराब हो गयी | 07 जून तक इलाज करने के बाद अस्पताल ने  36.68 लाख रूपए का बिल थमा दिया | सीआरपीएफ में बतौर कांस्टेबल कार्यरत जगदीप का कहना है की प्रार्थना करने के बाद बड़ी मुश्किल से बिल की राशि घटाकर 24.04 लाख रूपए की | भीमसिंह के परिवार ने इस बिल को चुकाने के लिए रिश्तेदारों से उधार लिया जो आज तक चूका रहे हे | इस मामले की शिकायत मरीज के बड़े भाई रामनिवास ने जून 2016 में सीएमओ को दी थी | जिस पर जाँच कमेठी भी बनाई गई थी | सीएमओ की टीम ने कहा की इलाज में कोई गलती नहीं हे |  उस वक़्त अधिक बिल की बात नहीं हुई थी |

लेकिन फोर्टिस हॉस्पिटल पिछले मामले में विवादित होने के बाद दोबारा परिवार वालो ने शिकायत दी है और कहा है की इलाज गलत हुआ है और अधिक बिल वसूलने की शिकायत कर जाँच की मांग की है |

मुख्यमंत्री मनोहर लाल और स्वास्थ्य मंत्री को भी शिकायत भेजी है | हालाँकि इस मामले में अस्पताल प्रबंधन की और से कुछ नहीं कहा गया | मामले की जाँच चल रही है  |